Blog

बहुजन राजनीति का अंत - डॉ. उदित राज
6 Nov. 2020

नब्बे के दशक में बहुजन राजनीति का उभार उत्तरी भारत में हुआ | दलित एवं पिछड़े आन्दोलन को गति देने से सहयोग किये | आन्दोलन में भावना एवं अधिकार दोनों का मिश्रण था और इसमें कोई गलती भी ना थी . कभी ऐसी रणनीति बनानी पड़ती है ताकि जल्दी बड़ी संख्या में लोग जुड़ जाएं | "तिलक , तराजू और तलवार मारो इनको जूते चार " ," वोट हमारा राज तुम्हारा नहीं चलेगा"," जिसकी जितनी संख्या भारी , उसकी उतनी भागीदारी " नारे भावनात्मक रूप से एकजुट होने में बड़े काम आए| अधिकार के रूप में वायदा किया गया कि हम देने वाले बनना चाहते हैं | चूंकि बड़े अधिकार कि प्राप्ति कि बात थी इसलिए लोगों ने सहयोग भी उसी अनुपात में दिया और तुरंत पाने की चाहत छोड़ दी| मिले अधिकार पर्याप्त न थे तभी तो हुक्मरान बनकर बड़ा लक्ष्य रखा|इस बड़े सपने के सामने वर्तमान अधिकार और योजना की चिंता से मुक्त कर दिया | रोजमर्रा की बाते महत्वहीन हक गईं| दिन- प्रतिदिन के आधार पर सड़क से संसद तक न लड़ा और न लड़ने दिया और अगर कोई लड़ना चाहा उसे बहुजन आन्दोलन विरोधी तक कहा और बहिष्कृत भी किया | कार्यकर्ताओं से कहा हुक्मरान बनने कि सोचो आरक्षण , शिक्षा , स्वस्थ्य एवं भागीदारी कि बात करना मांगने के सामान है | आज़ादी के बाद कांग्रेस सैकड़ों प्रतिष्ठान , संस्थाएं , विभाग आदि का सृजन किया जिसमें दलित-आदिवासी कि भागीदारी हुयी | निजी संपत्तियों का राष्ट्रीयकरण किया . शिक्षा का भी भी सरकारी क्षेत्र में फैलाव और विस्तार हुआ | निजी बैंकों का राष्ट्रीयकरण हुआ , जमीन सुधार कानून के द्वारा भूमिहीनों और दलितों को जमीन का आबंटन किया गया , बिना फीस के शिक्षा , वजीफा, होस्टल आदि कि सुविधा मिली , आर्थिक रूप से सशक्तिकरण करने के लिए स्पेशल कंपोनेंट प्लान, ट्राइबल सब प्लान , अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार निवारण कानून , कोटा- परमिट में भागीदारी , पद्दोन्नति में आरक्षण , खाली पदों पर भर्ती आदि दर्जनों सुविधाएँ-अधिकार मिले | उस दौर में दलित जागृति कम थी और व्यक्तिगत महत्वाकांछा न के बराबर थी | जाती के आधार पर दल और संगठन न के बराबर थे, इस तरह से समाज इकट्ठा था |इस बड़े वोट बैंक के सहारे कांग्रेस दशकों तक सत्ता मे रही और बदले में उपरोक्त अधिकार और सुविधाएं दिए| कांशीराम जी ने इसे नकारा और दलित -आदिवासी जन प्रतिनिधियों को चमचा कहा | बार बार कहा कि कांग्रेस ने डॉ अम्बेडकर का अपमान किया | कांशीराम जी ने वही लक्ष्य सामने रखा जो डॉ अम्बेडकर का था लेकिन तरीका अलग था | बाबा साहब ने कदम कदम पर अधिकारों कि लड़ाई लड़ी | कांशीराम जी ने इसे सवर्णों के सामने हाथ फैलाना कहा | बाबा साहब जाति निषेध कि बात करते थे , कांशीराम जी जाति ध्रुवीकरण के जरिये वोट बैंक पैदा करना. 1998 में मलेसिया की राजधानी क्वालालंपुर में दलित सम्मलेन हुआ जिसमे काशीराम , रामविलास पासवान , फूलन देवी और मैं स्वयम भी शामिल था. उस सम्मलेन में काशीराम जी ने कहा था कि भारत में जातिवाद इतना ज्यादा बड़ा दूंगा कि सवर्ण चिल्लाने लगेंगे | काशीराम जी स्वयम संसद में आवाज़ उठाने में ज्यादा यकीन नहीं रखते थे | कभी कभार संसद में गए भी तो हाजिरी लगाकर निकल गए |सारा समय संगठन को देते रहे | उसी नक़्शे कदम पर मायावती भी चलती रही . बसपा से सांसद –विधायक काफी संख्या में चुनकर गए लेकिन आरक्षण बचाने,निजीकरण के खिलाफ व संशाधनो में भागीदारी एवं व्यक्तिगत समस्या आदि को नहीं उठाया.हर समस्या का एक ही उत्तर कि हम सत्ता में आकर के सबका बदला एक ही बार में ले लेंगे| दलित कांग्रेस को छोड़े और वह कमजोर हुयी | बहुजन आन्दोलन ने अधिकार और भागीदारी कि बात नहीं कि , परिणाम आज सामने है कि नौकरियां लगभग ख़तम हो गयी, शिक्षा का निजीकरण हुआ | इससे समझा जा सकता है कि क्या खोया क्या पाया ? 4 जनवरी 2011 को लखनऊ हाई कोर्ट ने पदोन्नति से सम्बंधित मामले में आरक्षण के खिलाफ फैसला दिया जिससे सर्वाधिक हानि उत्तरप्रदेश के दलित कर्मचारियों का हुआ | इतनी लापरवाही हुई कि मुकदमा हारने का मतलब न था लेकिन नशा था हुक्मरानी का और अदम पैरवी में हार हुई। ज्ञात रहे कि परिसंघ ने 2006 में सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की पैरवी करके जीता था | इसी फैसले की शर्तें पूरी करके हाई कोर्ट को जवाब देना था लेकिन मायावती को कहे कौन और हुक्मरानी का नाश जो था. समर्थक भी इसी भ्रम में थे |बिहार राजस्थान जैसे प्रदेशों ने सुप्रीम कोर्ट के निर्णय कि शर्ते पूरा कि और वहां क्षति नहीं हुयी | 2007 में अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम को मायावती ने शासनादेश के द्वारा कमजोर कर दिया और परिसंघ इलाहाबाद हाई कोर्ट पहुंचा और यह कानून बाख सका| दलित समाज तड़क-भड़क , गाली- गलौज , भड़काऊ बातों में आ जाता है| शुरुआत में तमाम दलित - पिछड़ी जातियों को जोड़ा | सब बराबर बैठे और धीरे धीरे दो कुर्सी लगने लगी तो जो समता मूलक समाज बनाने चले थे , उसके विपरीत चल पड़े. अन्य जातियों में सम्मान व अधिकार की भूंख जगा दिया और मिलकर बाटने की बात आई तो पलट गए| इससे बहुजन समाज में अनगिनत संगठन बन गए | एक बार सत्ता की भूख पैदा हो तो बुझाने की आस तो पैदा हो जाती है. एक भ्रांति और दूर कर देना चाहिए कि माना जाता है कि सपा व बसपा सोशल इंजीनियरिंग करते हैं जबकि वास्तव बीजेपी करती है| 2017 में उप्र में बीजेपी ने उन सारी जातियों को अपने ओर कर लिया जिसे सपा व बसपा में न कुछ मिल रहा था| बीजेपी का मुख्य उद्देश्य उसकी विचारधारा और प्रमुख पोस्ट अपने पास और थोड़ा थोड़ा दलित- पिछड़े जातियों में बाट देना | बहुजन जागृति की मूलमंत्र ही शोषित जातियों को अधिकार व सम्मान के लिए जगाना| दलित- पिछड़े अपने अपने जाती को ही रेवड़ी व पद बाटेंगे तो क्या होना था? ऐसी हालत में बर्बादी के लिए दुश्मन कि भी जरुरत नहीं है और आंतरिक द्वंद बर्बादी के लिए काफी हैं| उन जातियों की क्षति ज्यादा हुयी जिन्होंने इस आन्दोलन को खड़ा किया |

( लेखक डॉ उदित राज परिसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष, पूर्व लोकसभा सदस्य और वर्तमान में कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं }